Page 4 - PowerPoint Presentation
P. 4

स क   न की तराश



                                                                                   ें
                                                       स क   न की तराश भ, फपयता यहा इधय उधय



                                                       त  कहाॉ नछऩा हआ ..क्म ॉ नहीॊ आती नज़य



                                                       गरी गरी शहय शहय ,ढ  ॊढता यहा फकधय



                                                       भैं चरा उधय उधय त  चरा ज़जधय ज़जधय




                                                       ख श हई भेयी नज़य जो भ झे मभरी खफय



                                                          ॊ
                                                                                                      े
                                                                                                        े
                                                       ध धरा सा अक्श  ददखा.. भ हॉ पय थी भगय

                                                       त  अकरी क्मों खड़ी ..,त  ऩरट बी  इधय
                                                                े


                                                                               े
                                                                                         ै
                                                       ख द का अक्श दख ...पर गई भेयी नज़य ..

                                                       इठराती सी फोरी वो . भैं तो त झ भे ही यही




                                                                                                     ॊ
                                                       ऩास तेय हॉ सदा ....अफ ना जाउगी कहीॊ
                                                                   े
   1   2   3   4   5   6   7   8   9